Views
5 months ago

04_2018_BJS_April_Samachar_05.04.2018

ू ं ं ं ं ु

ू ं ं ं ं ु ं ु ु ु ु ंु ं ं ु ं ृ ू ं ु ं ु ु ु ु ं ं ु ु ं ं ु ु ु ं ु ु ं ं 'हम बने- तम बने, एक दजे के िलए’ ‘आपसी िव ास ही स चा यार' - ी फ ल पारख िववाह उपरात यगल के जीवन म तीन Stages आते ह. थम ह ै ‘Romance Stage’ जो िववाह के साथ ही ार भ होता ह ै तथा थम िशश के ज म तक रहता ह.ै यह काल ववै ािहक जीवन का सवािधक छोटा काल होता ह.ै ि तीय ह ै ‘Practical Stage’ जो थम िशश के ज म से ार भ होती ह ै और उनक सतान के िववाह स प न होने तक रहती ह.ै यह काल ववै ािहक जीवन का सवािधक लबा काल होता ह.ै ववै ािहक जीवन म ततीय ह ै ‘Maturity Stage’ ह.ै जो दादा-दादी,नाना-नानी बनने से श होता ह.ै ववै ािहक जीवन के इन तीन Stages को समझते हए जो Romance Stage म Romance, Practical Stage म Practical तथा Maturity Stage म Maturity के साथ जीवन यतीत करते ह ै वे ही सफल एव सखी दा प य जीवन का उपभोग करते ह. भारतीय जनै सगठन ं के रा ीय अ य ी फु ल पारख ने इदौर ं म 'एक दजे के िलए' िवषय पर 11 माच को 1000 से अिधक मिहला व प ष से बीजेएस गितिविधयाँ एव ं समाचार खचाखच भरे रव नाटय ् गह ृ म सभा को सबोिधत ं िकया. आपने कहा िक िववाह मा होने से सखी जीवन नह चलता. इसम समझ, सर ा, े म, के यर, धयै , याग आिद बहत ज री ह.ै िववाह सात ज म का बधन ं ह.ै साथ म े रहना, वय ं खश ु रहना और प रवारजन को खश रखना, ये भगवान क नमे त ह.ै उ ह ने बताया िक पित- पि न म िव ास ही स च े े म का पयाय ह.ै स च े यार म आिधप य एव डर का कोई थान नह ह.ै अपने बड़ से जसै ा आप यवहार करग,े आपक सताने भी आपके साथ आने वाले समय म वसै ा ही यवहार करेगी. शहर के िविभ न जनै सगठन - जनै सो यल प, जनै ते ा बर सो यल प, िदग बर जनै सो यल प के अ य और पदािधका रय का इस सफल आयोजन हते ु अिभन दन िकया गया. काय म के मु य सू धार थे बीजएे स के रा ीय उपा य ी वीरे कमार जनै . सचालन ीमती रेखा जनै ने िकया. बीजेएस प रचय स मेलन का आयोजन िदनाक - 11 माच, 2018, इदौर (म. .), ितभागी - 476 आयोजक – भारतीय जैन सघटना, आगम,इदौर ‘ यवसाय िवकास काय म’- बदलोगे तो बढ़ोगे: मागदशक: ी राके श जैन ‘ खर’, इदौर , आयोजक भारतीय जैन सघटना, छ ीसगढ़ िदनाक - 18 माच, 2018, जोधपर (राज थान), ितभागी-170 आयोजक – भारतीय जैन सघटना, जोधपर 1. 24 माच – ख रयार रोड (छ ीसगढ़) 2. 24 माच – महासमद (छ ीसगढ़) 3. 25 माच – रायपर (छ ीसगढ़) 4. 26 माच – क डागाव (छ ीसगढ़) 5. 26 माच – रािजम (छ ीसगढ़) भारतीय जैन सघं टना 6 अ लै 2018

ृ ु ं ु ु ं ु ू ं ु ं ं ू ं ं ं ् ं ं ु ु ू ु ू ं ु ू ं ु ु ं ं ं ं ु ु ृ ु ं ं ु ं ं ं ं ् ू ं ु ं ु ं ं ं ु ु ं ं म य देश म ‘अ पस यकता के लाभ एव अिधकार ’ पर काय म भारतीय जैन सघटना म अ पस यक िवषय के रा ीय सयोजक ं ी िनरजन ं जवा ु ं जैन, अहमदाबाद ने 11 माच को जावरा म ‘अ पस यकता के लाभ एव अिधकार ’ पर समाज के कायकताओ को िश क बनाने हते िश ण दान िकया, रीजनल चये रमने ी सनील पटेल, नीमच साथ म थे. 22 अ ैल, 2018 को इदौर (म य दशे ) म आयोिजत होने वाले FJEI रा य अिधवेशन क पण ू तैया रय हते ु 30 माच को इदौर ं म आयोिजत सभा म ी िनरजन ं जवा ु ं जैन,अहमदाबाद ने जैन िश ण सं थाओ ंके सवैधािनक ं अिधकार व लाभ पर य य िदया. भारतीय जैन सघं टना बीजेएस मैसर (कनाटक) का ‘िव ादान’ 7 महावीर जयती के अवसर पर बीजेएस नीमच ारा रीजनल चये रमने ी सनील पटेल के सािन य म जैन थानक म काय म थल पर डे क लगाकर ‘अ पस यकता के लाभ एव अिधकार ’ पर य जानकारी दान क गई. ु ् ु ं ु ै ु े ु ं ं ं ू ् ु ु ू ृ े ु ु े ं ु ु ु ै ं े ् ै े े ं ं ं े ृ ू ु ं ू ू ँ ै ू ‘िव ादान’ योजना म परानी पाठय प तक का स ह क ा 1 से 12 व के िव ािथय से कर इन प तक को उन िव ािथय म िवत रत िकया जाता ह जो प तके खरीदने म असमथ ह. ात य रह िक यह योजना गत वष ार भ क गई थी व 100 से अिधक प तक का स हण एव िवतरण सयोिजका िनशा जैन, मसै र के नेत व म हआ था. इस वष 1 अ ैल से पाठय प तक स हण का काय ार भ हआ जो 22 अ ैल, 2018 तक चलेगा. ी काश गलेचा, अ य , भारतीय जैन सघटना मसै र ने बतलाया िक गत वष के प रणाम से उ साह ा कर िव ादान योजना ितवष समाज के सहयोग से समाज हते सचालन करने का िनणय िलया गया ह. प 3 से आगे... मथन: महावीर को नार म नह यवहार म िजय ... महारा के मले घाट व कोसबड के 700 से अिधक कपोिषत कराई जा रही ह. इतने यापक तर पर मौिलक काय िकसी वयसेवी स था आिदवासी ब च व आ मह या त िकसान प रवार के 650 से अिधक ारा िकया जाना अपने आप म एक िमसाल ह.ै ब च का भी पनवसन पण के भारतीय जैन सघटना शै िणक पनवसन क प परोपकार म िकया गया. इस पनवसन क प म ब च को िश ा के साथ-साथ उनके जैन समदाय एक परोपकारी समदाय ह. झोपड़ प ी व ज रतमद िनवास, पालन-पोषण, आरो य, खले कद, यायाम आिद क स पण प रवार के ब च म िवटािमन क कछ कमी क वजह से कटे-फटे होठ, यव थाए क गयी ह. इस तरह िश ादान के म बीजेएस गत 3 दशक से आखँ का ितरछापन व चहे रे पर दाग-ध बे पाए जाते ह. बीजेएस वष 1991 से रचना मक काय कर रहा ह.ै लगातार आज तक लाि टक सजरी िशिवर का आयोजन कर ऐसे प रवार व पर परोप हो जीवानाम ब च क मदद कर रहा ह.ै अब तक 2.50 लाख से अिधक ज रतमद को जैन तीक म अिकत ‘पर परोप हो जीवानाम’ का अथ ह - सभी लाि टक सजरी के मा यम से ठीक कर उ ह स मािनत जीवन दने का ािणय क आपसी सहायता. महारा िपछले लगभग 5 वष से सख क परोपकारी काय िकया ह.ै चपेट म ह.ै ऐसी िवकट प रि थित म वष 2013 म बीजेएस ने पर पर सहायता अ पस यक लाभ को जैन समाज के ज रतमद प रवार तक पहचाने तथा क भावना से 117 सख तालाब को मा 1 माह म गाद (Silt) िनकाल कर बड़े तर पर िव ािथय को छा वि या िदलवाने का परोपकारी काय भी 20 लाख घन फट अित र जल मता का िनमाण िकया व 20 लाख घन फट बीजेएस ारा िकया जा रहा ह.ै उपजाऊ िमटटी जो तालाब से िनकली वह बजर खते म िबछाई गयी, िजससे सामािजक उ रदािय व के तहत बीजेएस ने ‘ माट गल’ नामक जमीन क उपजाऊता म वि हई. वष 2017 म सखा मि अिभयान म 339 काय म तैयार कर िपछले 10 वष म 3 लाख से अिधक दशे क यवा बेिटय गाँव म 400 से अिधक जेसीबी व पोकलेन जैसी भारी मशीन से सहायता क को 21व शता दी क सामािजक चनौितय का सामना करने हते स म बनाने गयी. इस वष महारा के बलडाणा िजले के 1000 से अिधक गाव म सभी का काय िकया, जो िनरतर जारी ह.ै पानी ोत को गहरा करने, साफ़ करने, िनमाण करने का काय गित पर ह.ै इस भ.महावीर के िस ात क मल भावना, िजसम स पणतः हते भारतीय जैन सघटना ने 134 जेसीबी व पोकलेन मशीन को खरीदकर सामािजकता िछपी हई ह,ै भारतीय जैन सघटना वतमान सामािजक स दभ म काय पर लगाया ह.ै इसी तरह महारा के 24 िजल के 75 तालकाओ के मा उ ह उजागर ही नह कर रहा अिपत च रताथ भी कर रहा ह.ै आज समाज 3000 गाँव म खदाई काय के िलए मशीन क सेवाए बीजेएस ारा सलभ व रा िनमाण म जैन समदाय क बल भिमका आव यक ह िजससे भ.महावीर क क याणमयी िव क सक पना को मत प ा हो सके . अ लै 2018